रेलवे सारथी सेवा योजना | Railway Sarathi Seva Yojana in hindi

रेलवे की सारथी सेवा योजना 2021 Railway Sarathi Seva Yojana in hindi

सारथी सेवा योजना कौन-कौन रेलवे ने सबसे पहले दिव्यांग यात्रियों (physically challenged passengers) के लिए प्रारंभ किया. ताकि यात्रा के क्रम में उसकी देखभाल हो सके और उन तक आवश्यक मदद उपलब्ध कराई जा सके. भारत देश के रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने रेल बजट वर्ष 2016-17 के भाषण के मुख्य बिंदु की घोषणा करी थी. कि भारतीय रेलवे द्वारा कोंकण रेलवे की सारथी सेवा योजना को पूर्ण सहयोग किया जाएगा और इसे बढ़ाने में भी मदद दी जाएगी. साथ ही साथ रेलवे द्वारा यह भी घोषणा करी गई थी की रेलगाड़ियों के ऑपरेशन होल्ड को कमर्शियल होल्ड बनाया जाएगा. जिसे कि यात्रियों को सुविधा मिलेगी .

रेलवे सारथी सेवा योजना | Railway Sarathi Seva Yojana in hindi
 Railway Sarathi Seva Yojana 



सारथी सेवा योजना

  • योजना का नाम- सारथी सेवा योजना
  • घोषणा किसने की - रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने
  • सेवा प्रारंभ हुई- जनवरी 2016
  • सर्वप्रथम सेवा प्रारंभ करने वाले-  कोंकण रेलवे
  • अन्य स्टेशन जो इस योजना का अनुसरण कर रहे हैं - रत्नागिरी, चिपलुन,करमाली,मडगांव, उडुपी नामक स्टेशन.


रेलवे की सारथी सेवा योजना का मुख्य विशेषता ( key features of sarathi seva yojana)

सार्थी सेवा के अंतर्गत वैसे यात्री जो या तो वृद्ध हो या दिव्यांग हो और उन्हें स्टेशन पर मदद की आवश्यकता हो वैसे यात्रियों को बिना किसी शुल्क के एक व्हीलचेयर और एक असिस्टेंट की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी.

रेलवे के द्वारा आरंभ की गई यह योजना एक संकेत है. भारतीय रेलवे ने इस योजना को ज्यादा प्रभावी बनाने के लिए इसमें और भी सुविधाएं आरंभ करने के लिए कदम उठाए हैं. ताकि पैसेंजर्स को और भी अच्छी सुविधा मिल सके.

सारथी सेवा योजना के अंतर्गत रिटायरिंग रूम घंटे के हिसाब से बुक करने की सुविधा भी जोड़ दिया गया है. इससे पहले रिटायरिंग रूम की बुकिंग कम से कम 12 घंटे के लिए की जाती थी. लेकिन अब पैसेंजर इसे अपनी आवश्यकता के अनुसार 12 घंटे से कम घंटे के लिए भी बुक करवा सकते हैं.

सारथी सेवा योजना के अंतर्गत कौन लाभ ले सकता है

इस योजना के अंतर्गत ऐसे यात्री लाभ ले सकते हैं जो वृद्ध हैं और शारीरिक रूप से अक्षम हैं या चल फिर नहीं सकते हैं. ऐसे यात्रियों को इस योजना के अंतर्गत मुफ्त व्हीलचेयर और एक असिस्टेंट के लिए बुकिंग करवाई जा सकती है. इस सुविधा का लाभ लेने के लिए पैसेंजर्स को एक निश्चित स्टेशन पर पहुंचने से पहले ही बुकिंग करना होता है.


सारथी सेवा योजना किस प्रकार लागू होती है

जो भी यात्री अक्षम होते हैं उनको सुविधाएं उपलब्ध कराने की संपूर्ण प्रक्रिया कोंकण रेलवे द्वारा की जाती है. और इसके अलावा जो भी अन्य सुविधाएं  भारतीय रेलवे द्वारा आरंभ करी गई है. उन सुविधाओं की व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी आईआरसीटीसी विभाग की है. भारतीय रेलवे कुछ बीमा कंपनियों के साथ मिलकर कार्य कर रही है. जिससे कि रेल यात्रियों को रेल यात्रा करने के दौरान वैकल्पिक रूप से यात्रा बीमा की सुविधा दी जा सके. पैसेंजर्स के द्वारा इस वैकल्पिक सुविधा का लाभ टिकट बुक करते समय लिया जा सकता है.


सुविधा प्राप्त करने हेतु बुकिंग प्रक्रिया


कोंकण रेलवे के अंतर्गत व्हीलचेयर और असिस्टेंट की सुविधा वृद्ध यात्री और दिव्यांग यात्रियों के द्वारा ली जा सकती है. यह सेवा बिल्कुल निशुल्क है. इस सुविधा को लेने के लिए उपरोक्त प्रकार से पैसेंजर द्वारा मोबाइल नंबर पर एक मैसेज भेजा जा सकता है वह मोबाइल नंबर है 96 640 44 456. किसी मोबाइल नंबर पर भेजे गए s.m.s. में यात्री का नाम और यात्रा की जानकारी देनी  है. जहां उन्हें सुविधा चाहिए.

भारत में अन्य स्थानों पर- इस सुविधा को कोंकण रेलवे के अलावा भारत के अन्य स्टेशनों पर प्राप्त करने के लिए आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाकर व्हीलचेयर और बैटरी कार की सुविधा बुक करवाई जा सकती है. परंतु इसके लिए आपको कुछ राशि का भुगतान शुल्क के रूप में करना पड़ेगा.
Reactions

Post a Comment

0 Comments