Inspiration story प्रेरणा स्त्रोत कहानी

Inspiration story

आज मैं अनायास ही घूमते घूमते स्टेशन की तरफ चला गया ! वहां पर  एक  बूढ़ा भिखारी पर मेरी नजर गईवहां पर बैठा हुआ था !  मैंने देखा कि कुछ लोग वहां आते हैं और उस भिखारी को रुपए दे देते और उसे स्वीकार कर लेता! लेकिन एक व्यक्ति ने उसे रुपए के बदले एक कंबल दिया ,लेकिन  बूढ़े  भिखारी ने उसे स्वीकार नहीं किया! फिर उस व्यक्ति ने रुपए दिए बूढ़े भिखारी ने उस रुपए को ले लिया ! यह सब पास बैठकर देखा था मुझे बड़ा अजीब सा लगा! मैंने सोचा की यह बूढ़ा भिखारी सिर्फ पैसा ही ले रहा है! ऐसा क्यों ,मेरे मन में उत्सुकता जागने लगी की वह क्यों ऐसा कर रहा है ! फिर मैंने सोचा कि क्यों ना मैं भिखारी से ही बात कर लूं! मैं अपने स्थान से उठकर उस के पास गयामैंने पूछा बाबा आपको क्या कष्ट है ,आप क्यों मांग रहे हो! उस बूढ़े  भिखारी ने अपने पैरों के ऊपर से रखे कपड़े को हटाया! और मुझे दिखाते हुए  कहा कि मेरे पैर नहीं हैइसलिए मैं भीख मांग रहा हूं ! मैंने फिर उनसे सवाल किया कि बाबा मैं आपको काफी देर से देखा हूं ,कि आपको लोग पैसे दे रहे हैंतो आप पैसे ले लेते हैं परंतु अगर कोई दूसरा चीज आपको देता है! तो आप मना कर देते हैं लेने से ऐसा क्यों  तो उस बूढ़े ने जवाब दिया -I am not a beggar. I only ask for money here for 2 hour. उन्होंने जवाब इंग्लिश में दिया था! मैं बड़ा  चकित था की यह  भिखारी तो इंग्लिश भी जानता है ! मेरी उत्सुकता और बढ़ गईमैंने फिर से सवाल किया बाबा आप तो अच्छी खासी अंग्रेजी बोल लेते हो! लगता है आप पढ़े लिखे हो ,उन्होंने फिर जवाब दिया! हां बेटा मैं केवल पढ़ा लिखा ही नहीं हूं! बल्कि एक जॉब भी करता हूं!

                                     मैं यह जवाब सुनकर और चकित हो गया मैंने पूछा बाबा जब आप जॉब करते हैं तो फिर इस हाल में आप क्यों हैं!  तो बाबा ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया इसके पीछे एक कहानी है,मैंने बाबा से फिर सवाल किया प्लीज बाबा मुझे बताइए ना क्या कहानी है! तो बाबा ने कहा कि बेटा मैं एक मल्टीनैशनल कंपनी में  मशीन चलाने का कार्य क्या करता था! काफी अच्छी सैलरी पैकेज थी मेरी और मैं काफी खुश भी था! मेरा एक बेटा था वह मैकेनिकल इंजीनियर था! खुशी से जीवन व्यतीत हो रही थी! दिन की बात है मैं कंपनी में काम कर रहा था! तभी मशीन मे मेरे पैर  जाने के कारण मेरे पैर कट गए! मेरे इलाज का सारा खर्चा कंपनी वालों ने उठाया! और मुझे  बहुत सारे पैसे भी दिए! पर उन्होंने मुझे फिर से काम पर नहीं रखाक्योंकि मैं अब उसके किसी काम लायक नहीं था! फिर मैंने पैसों से अपने घर पर ही वर्कशॉप खोला! जो काफी अच्छी चली! और मेरे पास काफी पैसे होने लगे! और पैसों से मैंने अपने बेटे को मैकेनिकल इंजीनियर बनाया! अच्छी जगह पर उसकी शादी की ! लेकिन मेरे बेटे ने  सारे घर वर्कशॉप बेच डालें! और अपनी बीवी को लेकर यूएसए में सेटल हो गया!

 तो मैंने पूछा कि आपके बेटे ने तो आपके साथ गलत कियातो वे हंसते हुए बोले कि उसने कुछ गलत नहीं किया जो उसका था  उसने ले लिया! उसी का तो था सारा चीज उसी के लिए  तो मैं कमाता था ! यह बोलकर बाबा ने मुस्कुरा दिए फिर मैंने बाबा से पूछा आप भीख मांग कर अपना गुजारा कर रहे हैं! तो उन्होंने जवाब दिया नहीं नहीं मैं तो अपना गुजारा जॉब करके करता हूं! मेरे घर में लोग हैं और मैं अपना गुजारा जॉब करके ही करता हूं ! मुझे फिर आश्चर्य हुआ मैंने पूछा आप पूरे दिन जॉब करते हो और केवल घंटे भीख मांगते हो ! उन्होंने कहा हां

 फिर मैंने पूछा कि आपके घर में लोग कौनकौन हैं! आपने तो कहा था कि मेरी पत्नी है और आपके एक ही बेटे थे! तो उन्होंने कहा कि मैं अनाथ था बचपन में मेरे दोस्त की  मां ने मुझे पाला था और मुझे बेटे की तरह रखा थाएक एक्सीडेंट में मेरे दोस्त की मृत्यु हो गई थी! तो उसकी मां अकेली हो गईअब मैं उन्हें अपने घर में रखता हूं! तो हुए ना तीन लोग मैं मेरी पत्नीमां जीतो मैंने फिर उनसे सवाल किया तो जॉब से आप तीनों का गुजारा नहीं हो पाता है इसलिए आप भीख मांगते है, तो उन्होंने जवाब दिया नो माय सन जॉब से हम तीनों का गुजारा हो जाता है! और हम अच्छी तरह खा भी लेते हैं! लेकिन मां जी को डायबिटीज और उनके  दवाइयों का खर्चा जॉब से नहीं हो पाता है! क्योंकि मुझे ₹8000 ही मिलते हैं! जिसमें मां जी के दवाइयों का खर्चा नहीं हो पाता है! पास में ही एक मेडिकल वाला है,! जो मुझे उधार  में दवाई दे देता है! और मैं घंटे यहां पैसे मांग कर उस पैसे को मैं उसे दे देता हूंयह सब सुनकर मैं काफी  सन्न रह गया! मैंने फिर पूछा कि बाबा वह दोनों अगर आपको यहां देख ले भीख मांगते हुए तो उन्होंने मुस्कुराते हुए जवाब दिया कि वह दोनों नहीं  सकते क्योंकि वह दोनों मेरी हेल्प के बिना बेड से उठ भी नहीं सकतेतो यहां कैसे आऊंगा,मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ एक बूढ़ा आदमी जो खुद का भी  बोझ उठाने लायक नहीं है! वह दूसरे की मां  के लिए इतना संघर्ष कर रहा है ! मेरी आंखें भर आई ! तो मैंने उसे पूछा कि मैं आपकी कुछ मदद कर सकता हूं! मेरे पॉकेट में जो पैसे थे मैंने उन्हें निकाल कर दिया! हालांकि मेरे पॉकेट में ज्यादा पैसे नहीं थेलेकिन जो भी थे मैंने उन्हें दिया! और उन्होंने ले लिया !

 मैंने उनसे कहा कि मैं  आपका बेटा बनकर आपके घर में आप लोगों की सेवा करना चाहता हूं! तो उन्होंने मुस्कुराते हुए मना कर दिया! वह अपनी बैसाखी लेकर उठते हुए बोले बेटा अब मुझे इस रिश्ते में मत जोड़ो! एक बेटा था ! वह तो छोड़कर चला गया! अब अगर मैं तुझे बेटा मान लूंगा! तो तुम भी छोड़कर चले जाओगे! उस समय तो मैंने सहन कर लिया था! पर अब शरीर में इतनी हिम्मत नहीं है फिर से वह सब सहन कर सकूं !

                                            यह बोलते हुए उन्होंने मेरे सर पर हाथ रखा और  लड़खड़ाते हुए आवाज में बोला ! अपना ख्याल रखना बेटा हमेशा खुश रहो ! यह बोलते हुए वह वहां से जाने लगे ! जब मैं वहां से जाने के लिए मुरा तो मैंने महसूस किया कि मेरी आंखों से भी पानी निकल रहे थे! बाबा की कहानी ने मुझे अंदर तक रुला दिया था!

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 


Reactions

Post a comment

0 Comments