पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकियों और पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई का स्पष्ट संदेश दे दिया था ! P.m ने कहा था कि हमारे वीर जवान की बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगी ! और उन्होंने सेना को खुली छूट दी ! उसके बाद से ही आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई की योजना बनने लगी ! तो चलिए बताते हैं कि यह योजना किस प्रकार बनी
15 फरवरी
भारतीय वायु सेना के एयर चीफ मार्शल बिरेंदर सिंह धनोआ  ने पाकिस्तान को जवाब देने के लिए एयर स्ट्राइक का प्रपोजल रखा इस प्रपोजल को सरकार ने तुरंत मंजूरी दे दी !
16 से 20 फरवरी
भारतीय एयरपोर्ट्स और आर्मी के ड्रोन  के साथ एलओसी पर हवाई निगरानी शुरू की कर दी गई !
20 22 फरवरी को भारतीय वायु सेना ने और इंटेलिजेंस एजेंसी ने स्ट्राइक के लिए संभावित साइट्स को निर्धारित किया ! उसके बाद 21 फरवरी को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की ओर से एयर स्ट्राइक के लिए लक्ष्य का निर्धारण किया गया ! 22 फरवरी को वायु सेना के 1- स्क्वाडर्न टाइगर्स और 7- स्क्वाडर्न बैटल एक्सेस को स्ट्राइक मिशन के लिए एक्टिव किया गया !इसके अलावा मिराज स्क्वाडर्न मिशन के लिए 12 लड़ाकू विमान चुने गए ! 24 फरवरी को पंजाब के भटिंडा से वार्निंग जेट और यूपी के आगरा से मेड एयर रिफ्यूलिंग का देश के भीतर ट्रायल किया गया ! 25 फरवरी को ऑपरेशन की शुरुआत करते हुए 12 मिराज विमान को तैयार किया गया ! स्ट्राइक के पहले मिराज पायलट ने लक्ष्य को कंफर्म किया ! पाकिस्तान के भीतर मुजफ्फराबाद में लेजर गाइडेड बम के जरिए हमला किया गया ! और 26 फरवरी राष्ट्र सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस ऑपरेशन के बारे में जानकारी दी !
हमारे वायु सेना ने पीओके के कई जगह एयर स्ट्राइक किया इस पूरे ऑपरेशन को non-military preeamptive  का नाम दिया गया !


Source